Breaking News
Home 25 NCR-गाजियाबाद 25 गाजियाबाद के भाजपा पार्षद एवं अखिल भारतीय बाल्मीकि महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप चौहान ने सीएम से की कार्रवाई की मांग

गाजियाबाद के भाजपा पार्षद एवं अखिल भारतीय बाल्मीकि महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप चौहान ने सीएम से की कार्रवाई की मांग

Spread the love

गाजियाबाद। अनुसूचित जाति का फर्जी जाति प्रमाण पत्र लगाकर सहायक अध्यापिका के पद पर सालों से नौकरी करने वाली कानुपर की दो युवतियां के मामले में प्रशासन व शिक्षा विभाग द्वारा कोई कार्रवाई न किए जाने पर गाजियाबाद के भाजपा पार्षद एवं अखिल भारतीय बाल्मीकि महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप चौहान बाल्मीकि ने मुख्यमंत्री को शिकायत भेजकर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। प्रदीप चौहान ने कहा कि लेखपाल, तहसीलदार एसडीएम की फर्जी जाति प्रमाण पत्र निरस्त करने की संस्तुति के बाद भी शिक्षा विभाग व जिला प्रशासन जांच के नाम पर मामले को सालों से लटकाता आ रहा है। उन्होंने कानपुर के नवनियुक्त डीएम डॉ दिनेश चंद्र सिंह से उम्मीद जताई है कि वह इस गंभीर मसले पर कार्रवाई करेंगे।

बता दें की जिला कानपुर देहात के थाना सिकंदरा क्षेत्र के ग्राम मदनपुर निवासी निशा देवी पुत्री तुलसीराम कटियार(कुर्मी) व रुचि देवी पुत्री तुलसीराम कटियार (कुर्मी) ने आरक्षण का लाभ लेते हुए तहसील में अनुसूचित जाति (चमार) दर्शाकर फर्जी कागजात दाखिल कर पिता तुलसीराम कटियार की जगह निशा देवी पुत्री घसीट प्रसाद, रुचि देवी पुत्री घसीट प्रसाद के जाति प्रमाण पत्र बनवा लिए और शिक्षा विभाग में सहायक अध्यापिका के पद पर तैनाती पा ली। दोनों लड़कियां आज भी एक ब्लॉक मैथा के गजरा रामपुर और एक राजपुर ब्लॉक के करीमनगर में नौकरी कर रही है। मामले की गांव वालों ने शिकायत की, लेखपाल,नायब तहसीलदार तहसीलदार आदि की जांच रिपोर्ट में साबित हुआ कि दोनों का जाति प्रमाण पत्र फर्जी हैं।

तहसील स्तर से जिला प्रशासन को जाति प्रमाण पत्र निरस्त करने की संस्तुति की गई लेकिन सालों से मामला अधर में लटका है। अभी तक दोनों शिक्षिकाओं के जाति प्रमाण पत्र निरस्त नही किए गए हैं। यह कहकर लटकाया जा रहा कि अपर जिलाधिकारी कार्यालय में मामला विचाराधीन है। ताज्जुब इस बात का है कि दोनों लड़कियों ने जिस घसीट प्रसाद चमार(अनुसूचित जाति) का नाम दशार्या है उस नाम का ग्राम मदनपुर में कोई ब्यक्ति है ही नहीं। अधिकारियों की जांच में दोनों
ने घसीटे लाल की बेटियां होने का दावा किया था जो फर्जी साबित हुआ।

मामले की शिकायत सीएम से लेकर बेसिक शिक्षा मंत्री, डीएम कानपुर देहात जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से की गई लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नही हुई। अब इस मामले को गाजियाबाद के निगम पार्षद एवं अखिल भारतीय बाल्मीकि महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप चौहान बाल्मीकि ने मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की ।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*