Breaking News
Home 25 स्वास्थ्य 25 NGT में सिद्धार्थ विहार के डंपिंग ग्राउंड पर सुनवाई आज

NGT में सिद्धार्थ विहार के डंपिंग ग्राउंड पर सुनवाई आज

Spread the love

गाजियाबाद। कूड़े के संकट से निजात दिलाने के लिए अब नगर निगम को केवल एनजीटी से ही उम्मीद है। सिद्धार्थ विहार स्थित डंपिंग ग्राउंड पर कूड़ा डालने की मोहलत पर 26 अप्रैल यानी आज एनजीटी में सुनवाई होगी। जिससे नगर निगम के अधिकारियों को काफी आस हैं।

आपको बता दें कि स्वच्छता सर्वेक्षण में गाजियाबाद को उत्तर प्रदेश में पहले नंबर की रैंकिंग मिली है जबकि पूरे देश में गाजियाबाद का दसवां स्थान है। लेकिन प्रतिदिन गाजियाबाद से निकलने वाली 850 मीट्रिक टन कूड़े का निस्तारण न होने से महानगर में जगह-जगह कूड़े के ढेर लगने लगे हैं। नगर निगम पूरी तरह कूड़े का निस्तारण नहीं कर पा रहा है और कूड़ा डंप करने के लिए कहीं माफिक जगह भी नगर निगम को नहीं मिल रही है। जिसकी वजह से अधिकारियों की परेशानी बढ़ गई है। नगर निगम के सामने सबसे बड़ा संकट यह है कि जिन स्थानों पर नगर निगम की ओर से कूड़ा डाला जा रहा है, वहां स्थानीय लोगों का विरोध मुख हो रहा है। चाहे वह महामाया स्पोर्ट्स स्टेडियम के पीछे कूड़ा डंप करने की जगह हो या फिर भट्टा नंबर 5 पर लीज पर ली गई जमीन का मामला हो या फिर हज हाउस के पीछे डाला जा रहा कूड़ा। इन सभी जगहों पर आसपास की कॉलोनी के लोग कूड़ा डालने जाने का विरोध कर रहे हैं। ऐसी स्थिति में एक सवाल खड़ा हो रहा है कि आखिर कूड़ा डिस्पोजल कहां हो।

फिलहाल हालत यह है कि सिद्धार्थ विहार स्थित डंपिंग ग्राउंड पर 15 जनवरी के बाद से कूड़ा डालने जाने पर एनजीटी की रोक लगी हुई है। शहर के कूड़े की समस्या से निपटने के लिए नगर निगम के अधिकारियों ने एनजीटी में अर्जी दाखिल कर के मांग की है कि सिद्धार्थ विहार स्थित डंपिंग ग्राउंड पर फिर से कूड़ा डालने की इजाजत दी जाए। नगर निगम ने यह इजाजत 1 साल के लिए मांगी है ताकि वह अपना वेस्ट डिस्पोजल प्लांट स्थापित कर लें। इस अर्जी पर सुनवाई 26 अप्रैल को होनी निश्चित है। अब देखना यह है कि एनजीटी नगर निगम को मोहलत देता है या नहीं।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*