BEARKING NEWS
Home / NCR-गाज़ियाबाद / जानें, वाल्मीकि समाज ने भाजपा पर क्यों लगाया चहेतों को मलाई बांटने का आरोप

जानें, वाल्मीकि समाज ने भाजपा पर क्यों लगाया चहेतों को मलाई बांटने का आरोप

Spread the love

गाजियाबाद। पिछले 35 सालों से भारतीय जनता पार्टी के निष्ठावान सिपाही के तौर पर काम कर रहे प्रदीप चौहान वाल्मीकि को उत्तर प्रदेश राज्य सफाई कर्मचारी आयोग का अध्यक्ष न बनाए जाने का विरोध शुरू हो गया है। राज्य सफाई कर्मचारी आयोग का अध्यक्ष शाहजहांपुर के रहने वाले सुरेंद्र नाथ वाल्मीकि को बनाया गया है। जिससे गाजियाबाद ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश के वाल्मीकि समाज में रोष व्याप्त है।

आयोग के चेयरमैन पद के लिए प्रदीप चौहान का नाम सबसे पहले नंबर पर चल रहा था। लेकिन उन्हें दौड़ से बाहर कर दिया गया। इसी को लेकर वाल्मीकि समाज ने भाजपा के खिलाफ झंडा बुलंद कर दिया है और आने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा को वोट ना करने का संकल्प लिया है। भारतीय जनता पार्टी से नाराज वाल्मीकि समाज के लोगों का कहना है कि शाहजहांपुर के रहने वाले सुरेंद्रनाथ वाल्मीकि नगर विकास मंत्री सुरेश खन्ना के काफी करीबी है और उन्होंने ही अपने चहेते को चेयरमैन पद दिलाया है। दूसरी ओर प्रदीप चौहान वाल्मीकि अखिल भारतीय वाल्मीकि महासभा उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष है और समाज के लोगों के लिए वह दिन-रात खड़े रहते हैं। यही नहीं पिछले 35 सालों से वह भारतीय जनता पार्टी के लिए काम कर रहे हैं। उनकी कर्तव्य निष्ठा और ईमानदारी को पार्टी ने खारिज किया है। जिससे गाजियाबाद का वाल्मीकि समाज ही नहीं बल्कि पूरे उत्तर प्रदेश का वाल्मीकि समाज अपने को अपमानित महसूस कर रहा है।

अखिल भारतीय कर्मचारी महासंघ के जिलाध्यक्ष सतीश पारचा व महानगर अध्यक्ष अनिल कल्याणी ने बताया कि बाल्मीकि समाज की लड़ाई लड़ते हुए प्रदीप चौहान को कैला भट्टा से पुराना मकान कौड़ियों के दाम में बेचना पड़ा। हिंदू-मुस्लिम दंगों में साजिश के तहत उन पर रासुका लगाई गई, जो बाद में खारिज हुई। उन्होंने कहा कि प्रदीप चौहान ने अपना संपूर्ण जीवन समाज के लिए समर्पित किया लेकिन भाजपा उन्हें सम्मान देने की बजाय अपमानित कर रही है। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी और उसके नेताओं पर अपने-अपनों को मलाई बांटने का आरोप लगाया।

वाल्मीकि समाज के कार्यकर्ताओं ने भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ अपना गुस्सा जताते हुए नवयुग मार्केट में प्रदर्शन किया और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व के खिलाफ नारेबाजी की। कार्यकर्ताओं ने गाजियाबाद से प्रदेश सरकार में मंत्री अतुल गर्ग के खिलाफ भी नारेबाजी की। प्रदर्शन में मुख्य रूप से कर्मवीर धिगांन, सुनील भगवाना, शक्ति जीनवाल, कपिल अनिल कल्याणी, कालीचरण, सुनील कुमार, सुनील गहलोत, जितेंद्र भंडारी, राजेंद्र चौहान, प्रवीण वैद्य, राजू मास्टर आदि लोग शामिल रहे।

About Pradeep Verma

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

मुन्नी पर आचार संहिता की FIR के बाद सपा का पलटवार

Spread the love गाजियाबाद। सपा-बसपा व कांग्रेस गठबंधन के संयुक्त प्रत्याशी सुरेंद्र कुमार मुन्नी आदर्श ...